LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

Followers

इस ब्लॉग के अधिकाँश चित्र गूगल से सभार लिए गए हैं....
© कॉपीराईट नोटिस

इस ब्लॉग पर उपलब्ध साडी सामग्री का सर्वाधिकार सुधीर मौर्या सुधीर' के पास सुरछित हे. इनकी अनुमति के बिना इस ब्लाग से कुछ भी पूर्ण या आंशिक रूप से कापी करना वर्जित हे. कुछ भी प्रकाशित करने से पहले सुधीर मौर्या से लिखित इजाजत लेना और रचनाकार के तौर पर सुधीर मौर्या के नाम का स्पष्ट उल्लेख करना जरुरी हे.


Saturday, 11 February 2012

प्रेम की नाव

उसकी बातो में
लगने लगा हे
बहुत कुछ
बनाव इन दिनों.


किसी और की
गली से
गुजरने लगे हे
उसके पावं इन दिनों.


मागने लगा हे
कोई और
उसके जुल्फों की
छाव इन दिनों.


हाँ चर्चे हे
उसके एक और
अफएर   के
गाँव में
इन दिनों.


हो न हो
वो सवार हे
प्रेम की
दो नाव में इन दिनों.


सुधीर मौर्या 'सुधीर'
गंज जलालाबाद, उन्नाव
२४१५०२
०९६९९७८७६३४/09619483963

12 comments:

  1. 'प्रेम की दो नाव....'

    क्या कहने!

    सुधीर जी, अच्छा लिखते है आप.

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब, लाजबाब !

    ReplyDelete
  3. पहली बार पढ़ रहा हूँ आपको और भविष्य में भी पढना चाहूँगा सो आपका फालोवर बन रहा हूँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. शनिवार 02/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete