LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

Followers

इस ब्लॉग के अधिकाँश चित्र गूगल से सभार लिए गए हैं....
© कॉपीराईट नोटिस

इस ब्लॉग पर उपलब्ध साडी सामग्री का सर्वाधिकार सुधीर मौर्या सुधीर' के पास सुरछित हे. इनकी अनुमति के बिना इस ब्लाग से कुछ भी पूर्ण या आंशिक रूप से कापी करना वर्जित हे. कुछ भी प्रकाशित करने से पहले सुधीर मौर्या से लिखित इजाजत लेना और रचनाकार के तौर पर सुधीर मौर्या के नाम का स्पष्ट उल्लेख करना जरुरी हे.


Friday, 23 August 2013

सूखे पेड़ हरे पत्ते - सुधीर मौर्य

जनवरी की 
सर्द सडकों के 
दोनों ओर 
हल्की हवा से 
सरसराते 
सूखे पेड़-हरे पत्ते 
मेरी बेबसी पर 
कभी रोते 
कभी हँसते 


बड़ा गहरा 
ताल्लुक है मेरा 
इस सड़क 
और इनके किनारे के 
इन पडों से 
जिन्होंने मुझे 
निहारा था कभी 
मेरे गाँव की 
दोखेज दोशीजा के 
क़दमों से कदम 
मिलाते 
कभी पैदल 
कभी सायकल पर 
प्रीत के 
गीत गुनगुनाते 
कभी हाथों में हाथ डाले 
कभी एक दुसरे को सम्भाले 
ना जाने कितनी बार 
हमने मुकम्मल किया 
ये रास्ता 
बस हम दोनों 
ये सड़क 
और इसकी ओर के पेड़ 
और किसी से 
था वास्ता 
आज भी वही सड़क
आज भी वही हवा 
पर अब वो नहीं 
मेरे क़दमों से कदम 
मिलाने के लिए 
और रंग बदल गया
इन पेड़ों का मेरी तरह 
सूखे पेड़ हरे पत्ते 
मेरी बेबसी पर
कभी रोते 
कभी हँसते            

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर कविता .
    http://dehatrkj.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. खूबसूरती से उकेरे हैं जज़्बात ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद गीत जी

      Delete